कबीर दोहावली भाग 1 | 20 कबीर के दोहे अर्थ सहित

कबीर दोहावली का परिचय

यह कबीर दोहावली भाग 1 है। हमने कबीर के 20 दोहे एकत्र किए और उनका अंग्रेजी में अनुवाद किया तथा हिंदी में अर्थ लिखने का प्रयास किया है। कबीर दोहावली 15वीं शताब्दी के कवि-संत कबीर द्वारा लिखे गए दोहों का एक प्रतिष्ठित संग्रह है। अपनी गहन और सार्वभौमिक शिक्षाओं के लिए जाने जाने वाले कबीर के दोहे या ‘दोहे’ आध्यात्मिक ज्ञान और व्यावहारिक जीवन के पाठों का सार प्रस्तुत करते हैं। उनकी रचनाएँ धार्मिक सीमाओं से परे हैं, जो जीवन और आध्यात्मिकता की गहरी समझ चाहने वाले किसी भी व्यक्ति को मार्गदर्शन प्रदान करती हैं।

Explore Category: जीवनियाँ

Read: संत कबीर की जीवनी

कबीर के दोहों के मूल विषय

कबीर दोहावली के दोहे विनम्रता के महत्व, भौतिक खोजों की निरर्थकता और सच्ची भक्ति के सार जैसे विभिन्न विषयों को छूते हैं। कबीर अक्सर सतही धार्मिक प्रथाओं की आलोचना करते थे और आंतरिक शुद्धता और ईमानदारी की आवश्यकता पर जोर देते थे। उनकी शिक्षाएँ व्यक्तियों को भौतिक दुनिया से परे देखने और अपने भीतर दिव्य की तलाश करने के लिए प्रोत्साहित करती हैं।

कबीर दोहावली भाग 1 | कबीर के दोहे अर्थ सहित

कबीर दोहावली भाग 1 | 20 कबीर के दोहे अर्थ सहित

1.

दुख में सुमरिन सब करे, सुख में करे न कोय ।
जो सुख में सुमरिन करे, दुख काहे को होय ॥ 1 ॥


Meaning:
दुःख में तो सभी भगवान को याद करते हैं, सुख में कोई नहीं करता। यदि सुख में भगवान को याद किया जाए तो दुःख क्यों होगा? यहाँ कबीर मनुष्य को जीवन की हर परिस्थिति में भगवान को याद करने और उनके प्रति कृतज्ञ होने का आग्रह करते हैं।

2.

तिनका कबहुँ न निंदिये, जो पाँयन तर होय ।
कबहुँ उड़ आँखिन परे, पीर घनेरी होय ॥ 2 ॥


Meaning:
पैरों के नीचे आये तिनके की कभी निंदा मत करो। यदि यह कभी उड़कर आपकी आंखों के पार चला जाए तो बहुत दर्द होता है।
संत कबीर कहते हैं, कभी भी किसी ऐसे व्यक्ति को छोटा मत समझो जो शक्ति में आपसे कम हो। भाग्य को कौन जानता है? किसी दिन, वही उठकर आप पर पलटवार करता है। जिससे तुम्हें बहुत तेज दर्द होगा.

3.

माला फेरत जुग भया, फिरा न मन का फेर ।
कर का मन का डार दें, मन का मनका फेर ॥ 3 ॥


Meaning:
संसार युगों-युगों से माला फेरता आ रहा है, पर मन के विचार कभी नहीं फेरे। मस्तिष्क अभी भी संशयात्मक विचारों में ही डूबा रहता है। कबीर कहते हैं कि हाथ में पकड़ी हुई माला को छोड़ो और मन के मनके फेरो। इससे विचार शुद्ध हो जाएंगे।

4.

गुरु गोविन्द दोनों खड़े, काके लागूं पाँय ।
बलिहारी गुरु आपनो, गोविंद दियो बताय ॥ 4 ॥

Meaning:
गुरु और गोविंद दोनों खड़े हैं, किसके चरण छूऊं।
मैं अपने गुरु का आभारी हूं, जिन्होंने मुझे गोविंद के बारे में बताया।

5.

बलिहारी गुरु आपनो, घड़ी-घड़ी सौ सौ बार ।
मानुष से देवत किया करत न लागी बार ॥ 5 ॥

Meaning:
संत कबीर कहते हैं, मैं अपने गुरु का हर पल, सैकड़ों बार कृतज्ञ हूँ। उन्होंने मुझे एक विद्वान आत्मा में बदल दिया। उन्होंने मुझे मनुष्य से देवतुल्य प्राणी बना दिया और इसमें उन्हें एक क्षण भी नहीं लगा।

6.

कबिरा माला मनहि की, और संसारी भीख ।
माला फेरे हरि मिले, गले रहट के देख ॥ 6 ॥

Meaning:
कबीरदास कहते हैं, असली माला मन की होती है, हाथ से घुमाई जाने वाली नहीं। जो कुछ भी बाहर की ओर है, वह भिक्षा के समान है। अगर हाथ में माला घुमाने से भगवान मिलते हैं, तो रहट को देखो, जो गोल-गोल घूमता रहता है और कुछ नहीं पाता। इसलिए अंतरात्मा की माला फेरना बेहतर है।

7.

सुख में सुमिरन ना किया, दु:ख में किया याद ।
कह कबीर ता दास की, कौन सुने फरियाद ॥ 7 ॥

Meaning:
संत कबीर कहते हैं, “जब अच्छा समय होता है, तब भगवान को याद नहीं करते। जब बुरा समय आता है, तब भगवान को याद करते हैं। फिर आप उनसे कैसे उम्मीद करते हैं कि वे आपकी शिकायतें या अनुरोध सुनेंगे?”

8.

साईं इतना दीजिये, जा में कुटुम समाय ।
मैं भी भूखा न रहूँ, साधु ना भूखा जाय ॥ 8 ॥

Meaning:
कबीर कहते हैं, हे प्रभु, मुझे इतना दीजिए कि मेरा परिवार चल सके और मेरा पेट भर सके। मैं और मेरा परिवार भूखा न रहे, न ही मेरे घर भिक्षा मांगने आया कोई संत भूखा रहे। संत कबीर इस दोहे में भगवान से यही मांगते हैं कि उन्हें इतना ही दीजिए कि उनकी जरूरतें पूरी हो सकें और दूसरों की मदद हो सके।

9.

लूट सके तो लूट ले, राम नाम की लूट ।
पाछे फिरे पछताओगे, प्राण जाहिं जब छूट ॥ 9 ॥

Meaning:
अगर लूट सको तो राम नाम लूट लो। कबीर कहना चाहते हैं कि भगवान का नाम लो और सही रास्ते पर चलो। जितना हो सके भगवान का नाम लो। जब समय निकल जाएगा, जब तुम्हारा जीवन चला जाएगा, तब तुम पछताओगे। इसलिए समय बीतने से पहले भगवान को याद करना शुरू कर दो।

10.

जाति न पूछो साधु की, पूछि लीजिए ज्ञान ।
मोल करो तलवार का, पड़ा रहन दो म्यान ॥ 10 ॥

Meaning:
संत की जाति मत पूछो, ज्ञान पूछो। ज्ञानी की जाति मत पूछो, बल्कि उसका ज्ञान पूछो या उससे कुछ सीखो। कबीर इसकी तुलना तलवार और म्यान से करते हैं। वे कहते हैं कि मूल्य तलवार का है, म्यान का नहीं। इसलिए तलवार का मूल्य समझो और म्यान छोड़ दो।

11.

जहाँ दया तहाँ धर्म है, जहाँ लोभ तहाँ पाप ।
जहाँ क्रोध तहाँ पाप है, जहाँ क्षमा तहाँ आप ॥ 11 ॥

Meaning:
जहाँ दया है वहाँ धर्म है (यहाँ धर्म का मतलब अच्छाई है), जहाँ लोभ है वहाँ पाप है। जहाँ क्रोध है वहाँ पाप है, जहाँ क्षमा है वहाँ ईश्वर है। यहाँ आप का मतलब ईश्वर है।

12.

धीरे-धीरे रे मना, धीरे सब कुछ होय ।
माली सींचे सौ घड़ा, ॠतु आए फल होय ॥ 12 ॥

Meaning:
कबीर दास इस दोहे में कहते हैं, हे मेरे मन, धीरे चल, सब कुछ धीरे-धीरे और अपने नियत समय पर होता है। यदि माली एक पौधे को सौ गमले सींच दे तो वह तुरंत फल नहीं देगा, लेकिन जब उसका मौसम आएगा तो पेड़ पर फल अवश्य लगेंगे।

13.

कबीरा ते नर अन्ध है, गुरु को कहते और ।
हरि रूठे गुरु ठौर है, गुरु रुठै नहीं ठौर ॥ 13 ॥

Meaning:
संत कबीर कहते हैं, वे मनुष्य अंधे हैं, जो अपने गुरु को भगवान के अलावा किसी और को कहते हैं। या अपने गुरु (शिक्षक) को भगवान से भी कमतर मानते हैं। अगर भगवान (हरि) नाराज हो जाएं, तो आप शिक्षक (गुरु) की शरण में जा सकते हैं, लेकिन अगर गुरु नाराज हो जाएं, तो शरण लेने के लिए कोई जगह नहीं है।

14.

पाँच पहर धन्धे गया, तीन पहर गया सोय ।
एक पहर हरि नाम बिन, मुक्ति कैसे होय ॥ 14 ॥

Meaning:
पाँच प्रहर (एक प्रहर = तीन घंटे) अर्थात् 15 घंटे व्यापार या काम में व्यतीत होते हैं, नौ घंटे सोने में व्यतीत होते हैं। यदि एक प्रहर भी भगवान का स्मरण न किया जाए तो मोक्ष की आशा कैसे की जा सकती है?

15.

कबीरा सोया क्या करे, उठि न भजे भगवान ।
जम जब घर ले जायेंगे, पड़ी रहेगी म्यान ॥ 15 ॥

Meaning:
कबीर दास कहते हैं, यदि तुम सो रहे हो और कुछ नहीं कर रहे हो, और जब जागोगे तो भगवान का नाम नहीं लोगे। जब मौत आएगी और तुम्हें ले जाएगी, तो लाश ऐसे पड़ी रहेगी जैसे तलवार की म्यान पड़ी रहती है।

16.

शीलवन्त सबसे बड़ा, सब रतनन की खान ।
तीन लोक की सम्पदा, रही शील में आन ॥ 16 ॥

Meaning:
जो व्यक्ति सदाचारी, दयालु और अच्छे कर्म करने वाला है, वह सभी रत्नों का खजाना है। तीनों लोकों की सम्पूर्ण सम्पदा और समृद्धि ऐसे व्यक्ति में निवास करती है।

17.

माया मरी न मन मरा, मर-मर गए शरीर ।
आशा तृष्णा न मरी, कह गए दास कबीर ॥ 17 ॥

Meaning:
धन का भ्रम कभी नहीं मरा, यह मायावी मन कभी नहीं मरा, बल्कि शरीर मर गया। आशा और इच्छा कभी नहीं मरती; यही बात दास कबीर ने कही है। कबीर दास का मतलब था कि बाहरी दुनिया मायावी है और जितना आप खोजते हैं, उतनी ही आपकी इच्छाएँ बढ़ती हैं। मनुष्य के शरीर मर जाते हैं, लेकिन ये भ्रम नहीं मरते।

18.

माटी कहे कुम्हार से, तु क्या रौंदे मोय ।
एक दिन ऐसा आएगा, मैं रौंदूंगी तोय ॥ 18 ॥

Meaning:
मिट्टी कुम्हार से कहती है तू मुझे क्यों रौंदेगा? कुम्हार अपने पैरों की मिट्टी मिलाकर मिट्टी का घड़ा बनाता है।
एक दिन ऐसा आयेगा जब मैं तुम्हें रौंद डालूँगा। इसका मतलब है कि जब इंसान का शरीर मर जाता है तो उसे उसी मिट्टी के अंदर दफना दिया जाता है।

19.

रात गंवाई सोय के, दिवस गंवाया खाय ।
हीरा
जन्म अनमोल था, कोड़ी बदले जाय ॥ 19 ॥

Meaning:
रात सोने में और दिन खाने में बर्बाद होता है। यहाँ कबीर दास कहते हैं कि जीवन सिर्फ़ सोने और खाने के लिए नहीं है। यह जीवन हीरे की तरह अमूल्य है और तुम इसे कौड़ियों के मोल बर्बाद कर रहे हो।

20.

नींद निशानी मौत की, उठ कबीरा जाग ।
और रसायन छांड़ि के, नाम रसायन लाग ॥ 20 ॥

Meaning:
कबीर के अनुसार, नींद मृत्यु का प्रतीक है, इसलिए कबीर खुद को जागने के लिए कहते हैं। इसके अलावा, वह अन्य रसायनों (यानी अपने जीवन में अन्य कारकों) को छोड़कर भगवान के नाम का रसायन लेना चाहते हैं।

कबीर दोहावली का समाज पर प्रभाव

कबीर के दोहों ने भारतीय समाज को काफ़ी प्रभावित किया है और आज भी वे पीढ़ी दर पीढ़ी लोगों के दिलों में गूंजते हैं। उनकी सीधी-सादी और वाक्पटु अभिव्यक्तियाँ सामाजिक मानदंडों को चुनौती देती हैं और आत्म-चिंतन को प्रेरित करती हैं। कबीर दोहावली में समाहित कालातीत ज्ञान आज भी प्रासंगिक है, जो जीवन की जटिलताओं से जूझ रहे लोगों के लिए एक नैतिक दिशा-निर्देश प्रदान करता है।

निष्कर्ष: कबीर दोहावली की कालजयी प्रासंगिकता

कबीर दोहावली सरल लेकिन गहन शिक्षाओं की स्थायी शक्ति का प्रमाण है। कबीर के दोहे सिर्फ़ काव्यात्मक सौंदर्य से कहीं ज़्यादा हैं; वे सार्थक और सद्गुणी जीवन जीने के लिए मार्गदर्शक सिद्धांतों के रूप में काम करते हैं। कबीर दोहावली का गहन अध्ययन करके, कोई भी व्यक्ति समय से परे मूल्यवान अंतर्दृष्टि प्राप्त कर सकता है और व्यक्तिगत और आध्यात्मिक विकास को प्रेरित करना जारी रख सकता है।



About the Author

Categories: , ,

error:
Scroll to Top