“अलि मैं कण-कण को जान चली” महादेवी वर्मा की एक अत्यंत प्रेरणादायक कविता है। इस कविता में महादेवी वर्मा ने अपनी संवेदनशीलता और संवेदनाओं को अद्वितीय ढंग से व्यक्त किया है।

महादेवी वर्मा इस कविता (अलि मैं कण-कण को जान चली) में अपने भावनात्मक यात्रा का वर्णन करते हैं, जिसमें उन्होंने स्वयं को अपने संवेदनाओं के साथ एकीकृत किया है। “अलि” शब्द का प्रयोग उनकी विशेषता को संकेतित करता है, जो उनकी अपनी यात्रा के संग्रह का अभिव्यक्ति है।

यह कविता सामाजिक, आध्यात्मिक और मानवीय मूल्यों को विवेकानंदीय दृष्टिकोण से देखती है, जो अपने पाठकों को जीवन की सच्चाई के साथ जोड़ती है। इसका भावपूर्ण संदेश और उत्कृष्ट रचनात्मकता सुनिश्चित करती है कि यह कविता अपने पाठकों के दिलों और दिमागों में एक गहरा प्रभाव छोड़ती है।

यह भी पढ़ें: हयग्रीव अवतार की कहानी | विष्णु का हयग्रीव अवतार

अलि मैं कण-कण को जान चली

अलि मैं कण-कण को जान चली कविता

अलि, मैं कण-कण को जान चली
सबका क्रन्दन पहचान चली

जो दृग में हीरक-जल भरते
जो चितवन इन्द्रधनुष करते
टूटे सपनों के मनको से
जो सुखे अधरों पर झरते,

जिस मुक्ताहल में मेघ भरे
जो तारो के तृण में उतरे,
मै नभ के रज के रस-विष के
आँसू के सब रँग जान चली।

जिसका मीठा-तीखा दंशन,
अंगों मे भरता सुख-सिहरन,
जो पग में चुभकर, कर देता
जर्जर मानस, चिर आहत मन;

जो मृदु फूलो के स्पन्दन से
जो पैना एकाकीपन से,
मै उपवन निर्जन पथ के हर
कंटक का मृदु मत जान चली।

गति का दे चिर वरदान चली।
जो जल में विद्युत-प्यास भरा
जो आतप मे जल-जल निखरा,
जो झरते फूलो पर देता
निज चन्दन-सी ममता बिखरा;

जो आँसू में धुल-धुल उजला;
जो निष्ठुर चरणों का कुचला,
मैं मरु उर्वर में कसक भरे
अणु-अणु का कम्पन जान चली,
प्रति पग को कर लयवान चली।

नभ मेरा सपना स्वर्ण रजत
जग संगी अपना चिर विस्मित
यह शुल-फूल कर चिर नूतन
पथ, मेरी साधों से निर्मित,

इन आँखों के रस से गीली
रज भी है दिल से गर्वीली
मै सुख से चंचल दुख-बोझिल
क्षण-क्षण का जीवन जान चली!
मिटने को कर निर्माण चली!

~ महादेवी वर्मा

अलि मैं कण-कण को जान चली अर्थ

अलि! मैं कण-कण को जान चली
अली ईश्वर का संदर्भ है। कवयित्री महादेवी वर्मा भगवान का हवाला देते हुए कह रही हैं कि अब वे जीवन के हर दर्द और अनुभव को जानती हैं। वह भगवान से कहती है कि अब वह जीवन के हर पल को जानती है और वह हर किसी का रोना जानती है। वह कह रही होगी कि वह जानती है कि जो कुछ भी मौजूद है उसका जीवन में एक महत्व है।

यहां महादेवी वर्मा का जिक्र आंसुओं से है. वो आंसू जो आंखों में हीरे जैसी पानी की बूंदें लाते हैं। वो आंसू जो दिल में इंद्रधनुष के रंगों की तरह अलग-अलग एहसास भर देते हैं। जब कोई ख्वाब टूटता है तो ये आंसू भावुकता में बहकर सूखे होठों पर गिर जाते हैं।

यह आंसुओं का संदर्भ है और कवि इसकी तुलना मोतियों से करता है। पानी की बूंदों से मोतियों में भरते ये आंसू, ऐसा लगता है मानो सितारों के समूह में चमकता सितारा हो। कवयित्री कहना चाहती है कि अब वह आंसुओं के हर पहलू को समझती है।

इस कविता में कवि का अनुभव बखूबी निबद्ध है। आँसू दुःख, ख़ुशी, किसी सपने के टूटने, किसी प्रियजन के चले जाने और कई अन्य स्थितियों के हो सकते हैं। अलग-अलग स्थिति में आंसुओं का एहसास और स्वाद अलग-अलग होता है। वह आंसुओं के सभी पहलुओं को जानने का दावा करती है। वह सबका रोना जानने का दावा करती है.
अलि मैं कण-कण को जान चली | महादेवी वर्मा की कविता, ThePoemStory - Poems and Stories, Poems and Stories

अलि मैं कण-कण को जान चली | महादेवी वर्मा की कविता, ThePoemStory - Poems and Stories, Poems and Stories
यहाँ कवयित्री का तात्पर्य मिट्टी, धूल या ज़मीन पर बिछी रेत से है। मिट्टी या धूल सदैव हवा के साथ चलती रहती है। वो मिट्टी जो बारिश की प्यासी है. वह मिट्टी जो गर्मी और धूप की तपिश से फूली या विकसित हुई हो। जब शाखों से फूल झड़ते हैं तो ये मिट्टी चंदन की तरह उन्हें प्यार से ढक देती है।

वह मिट्टी जो सफेद रंग की हो गई है और निर्दय पैरों से कुचली गई है। कवयित्री ने बंजर भूमि की चर्चा करते हुए उसके दर्द को समझने का प्रयास किया है। वह कहती हैं कि रेगिस्तान या बंजर भूमि की इस सफेद रेत का दर्द अब उन्हें पता है। वह इसके हर हिस्से का दर्द समझती है।' और वह इस मिट्टी पर एक लय के साथ चलती है.

यहां कवि सपनों, रिश्तेदारों, अच्छे समय और बुरे समय के बारे में बात करता है। वह दावा करती है कि वह खुशी के सुखद और चंचल एहसास और बुरे समय के दुखद और अजीब एहसास को जानती है। इन सभी भावनाओं के साथ वह दावा करती है कि वह जीवन के हर पल और हर एहसास को समझती है।

अंत में, वह कहती है कि वह एक ऐसी रचना कर रही है जो विनाश के अधीन है या एक विनाश जो एक नई रचना के लिए है।
अलि मैं कण-कण को जान चली | महादेवी वर्मा की कविता, ThePoemStory - Poems and Stories, Poems and Stories

अलि मैं कण-कण को जान चली सारांश

अलि मैं कण-कण को जान चली सबका क्रन्दन पहचान चली

संक्षेप में, “अली मैं कान कान को जान चली कविता” जीवन के विभिन्न पहलुओं के बारे में है। ऐसी कुछ बातें हैं जिन्हें व्यापक रूप से स्वीकार किया जाता है, तथापि, एक अन्य भाग को व्यापक रूप से उपेक्षित किया जाता है। ऐसा प्रतीत होता है कि कवि अस्तित्व में मौजूद प्रत्येक वस्तु का मूल्य समझता है।

कवयित्री समाज में नकारात्मक पहलू रखने वाली हर चीज़ के पीछे के कारण और दर्द को समझने की कोशिश करती है। वह इसके पीछे का कारण समझने की कोशिश करती है।

कविता हर स्थिति में जीवन और भावना के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा करती है। यह कविता हर किसी के दिल को छूने के लिए खूबसूरती से लिखी गई है।

“अली मैं कण कण को जान चली” कविता जीवन के प्रति एक विशद एवं विस्तारित दृष्टिकोण प्रस्तुत करती है।

अलि, मैं कण-कण को जान चली
सबका क्रन्दन पहचान चली

~ महादेवी वर्मा


About the Author

TAGS

Categories

Explore: , , ,

YouTube Channels


Our Other Sites:


Twitter Instagram


error:
Scroll to Top