नीड़ का निर्माण फिर-फिर | नीड का निर्माण |नीड़ का निर्माण फिर फिर अर्थ | नीड़ का निर्माण फिर फिर हरिवंश राय बच्चन | नीड़ का निर्माण सारांश | नीड़ का निर्माण फिर फिर हरिवंश राय बच्चन द्वारा

परिचय

नीड़ का निर्माण फिर-फिर हरिवंश राय बच्चन की एक सुंदर कविता है। यह मेरी पसंदीदा हरिवंश राय बच्चन की कविताओं में से एक है। नीड़ का निर्माण का अर्थ है घर या आवास का पुनर्निर्माण करना। नीड़ का अर्थ आवास या घोंसला है।

रहने की जगह हो, सपना हो, कवि हरिवंश राय बच्चन पुनर्निर्माण या पुनर्निर्माण को प्रोत्साहित करते हैं। कविता नीड़ का निर्माण हिंदी में लिखी गई है। मैं इसके वास्तविक अर्थ में इस उम्मीद के साथ लाने की कोशिश करूंगा कि यह उन भावनाओं को पूरा करे जो कवि कविता में डालना चाहता है। आशा है आप इसे पसंद करेंगे।

आप हमारे Website पर अग्निपथ या एक बगल में चांद होगा जरूर पढ़ें।

नीड़ का निर्माण फिर फिर अर्थ – हरिवंश राय बच्चन की एक कविता

नीड़ का निर्माण फिर-फिर,
नेह का आह्वान फिर-फिर!

वह उठी आँधी कि नभ में
छा गया सहसा अँधेरा,
धूलि धूसर बादलों ने
भूमि को इस भाँति घेरा,

रात-सा दिन हो गया, फिर
रात आ‌ई और काली,
लग रहा था अब न होगा
इस निशा का फिर सवेरा,

रात के उत्पात-भय से
भीत जन-जन, भीत कण-कण
किंतु प्राची से उषा की
मोहिनी मुस्कान फिर-फिर!

नीड़ का निर्माण फिर-फिर,
नेह का आह्वान फिर-फिर!

वह चले झोंके कि काँपे
भीम कायावान भूधर,
जड़ समेत उखड़-पुखड़कर
गिर पड़े, टूटे विटप वर,

हाय, तिनकों से विनिर्मित
घोंसलो पर क्या न बीती,
डगमगा‌ए जबकि कंकड़,
ईंट, पत्थर के महल-घर;

बोल आशा के विहंगम,
किस जगह पर तू छिपा था,
जो गगन पर चढ़ उठाता
गर्व से निज तान फिर-फिर!

नीड़ का निर्माण फिर-फिर,
नेह का आह्वान फिर-फिर!

क्रुद्ध नभ के वज्र दंतों
में उषा है मुसकराती,
घोर गर्जनमय गगन के
कंठ में खग पंक्ति गाती;

एक चिड़िया चोंच में तिनका
लि‌ए जो जा रही है,
वह सहज में ही पवन
उंचास को नीचा दिखाती!

नाश के दुख से कभी
दबता नहीं निर्माण का सुख
प्रलय की निस्तब्धता से
सृष्टि का नव गान फिर-फिर!

नीड़ का निर्माण फिर-फिर,
नेह का आह्वान फिर-फिर!

~ Harivansh Rai Bachchan

नीड़ का निर्माण फिर-फिर, (पहला छंद)

नीड़ का निर्माण फिर-फिर,
नेह का आह्वान फिर-फिर!

वह उठी आँधी कि नभ में
छा गया सहसा अँधेरा,
धूलि धूसर बादलों ने
भूमि को इस भाँति घेरा,

रात-सा दिन हो गया, फिर
रात आ‌ई और काली,
लग रहा था अब न होगा
इस निशा का फिर सवेरा,

रात के उत्पात-भय से
भीत जन-जन, भीत कण-कण
किंतु प्राची से उषा की
मोहिनी मुस्कान फिर-फिर!

नीड़ का निर्माण फिर-फिर,
नेह का आह्वान फिर-फिर!

शाब्दिक अर्थ

निवास का पुनर्निर्माण और प्रेम को फिर से बुलाना या बार-बार प्रेम को फिर से शुरू करना।

कवि तब विनाश के दृश्य को चित्रित करता है। तूफान आसमान की ओर उठा और अचानक चारों ओर अंधेरा छा गया। धूल और गंदगी से भरे बादलों ने पृथ्वी को इस तरह ढक लिया कि वह अंधेरे से भर गई।

दिन ऐसे बदल गया मानो रात हो गई हो और खत्म नहीं हुई हो। रात भी अपने समय पर आई, और अन्धेरा हो गया। अँधेरे की सघनता के कारण ऐसा लगा कि अब सवेरा नहीं होगा। इस कभी न खत्म होने वाली रात का कोई सवेरा नहीं होगा।

रात में आए तूफान ने जो तबाही मचाई, उससे हर कोई डरा हुआ है। इसने इंसानों को डरा दिया और इसने अस्तित्व के हर कण को डरा दिया। हालाँकि, भोर हो गई। भोर प्रकाश के साथ आया। और भोर की रोशनी के साथ यह एक सुखद मुस्कान की तरह लग रहा था।

इससे बार-बार घोंसले के निर्माण की प्रेरणा मिलती है और उसमें बार-बार प्रेम की स्थापना होती है।

व्याख्यायित अर्थ

विनाश और तूफान के दृश्य को जीवन में कठिन समय या कठिन परिस्थिति कहा जाता है। कभी-कभी यह इतना तीव्र हो जाता है कि आपको लगता है कि आप स्थिति से बाहर नहीं आ पाएंगे। आपको लगता है कि यह बुरा समय कभी खत्म नहीं होगा। समय कितना भी खराब हो, स्थिति कितनी भी खराब क्यों न हो, वह बीत जाएगा। इसलिए अपने अंदर सकारात्मकता बनाए रखें।

यदि आँधी में किसी चिड़िया का घोंसला टूट जाता है तो वह आँधी के टल जाने पर उसे फिर से बनाना नहीं छोड़ती। तो, उसी पक्षी की तरह बनो। जीवन में परिस्थितियाँ आती-जाती रहेंगी। सपने टूटेंगे। हालाँकि, आपको पुनर्निर्माण और पुनर्निर्माण करने की आवश्यकता है और आपको इसे बार-बार करने की आवश्यकता है।

नीड़ का निर्माण फिर-फिर, (दूसरा छंद)

वह चले झोंके कि काँपे
भीम कायावान भूधर,
जड़ समेत उखड़-पुखड़कर
गिर पड़े, टूटे विटप वर,

हाय, तिनकों से विनिर्मित
घोंसलो पर क्या न बीती,
डगमगा‌ए जबकि कंकड़,
ईंट, पत्थर के महल-घर;

बोल आशा के विहंगम,
किस जगह पर तू छिपा था,
जो गगन पर चढ़ उठाता
गर्व से निज तान फिर-फिर!

नीड़ का निर्माण फिर-फिर,
नेह का आह्वान फिर-फिर!

शाब्दिक अर्थ

कवि आगे विनाश के दृश्य का वर्णन करता है। तूफान इतना तेज था और हवाएं इतनी तेज थीं कि वह विशाल और मजबूत पेड़ों को हिलाकर रख दिया। वे विशाल और मजबूत पेड़ जड़ से उखड़ कर जमीन पर गिर पड़े। तेज आंधी के सामने वे बड़े-बड़े पेड़ टिक नहीं पाए।

अफ़सोस! जब तेज हवाओं ने विशाल पेड़ों को उखाड़ दिया, तो टहनियों से बने घोंसलों के बचने का कोई रास्ता नहीं था। वे शायद बिखर गए होंगे, फिर न मिलने के लिए। तूफान ने कंकरीट और पत्थर के बने घरों को हिलाया, टहनी से बना घोंसला कैसे बचेगा? यह नष्ट हो गया था।

कवि पक्षी से पूछता है, बताओ ऐ! आशावान साथी। आप आशा में कहाँ छिपे थे? एक विनाशकारी रात के बाद, आपका घोंसला उजड़ गया और आप अभी भी गर्व से गा रहे हैं। आप फिर से हवाओं की सवारी कर रहे हैं और फिर से गर्व से गा रहे हैं? यह जबरदस्त सकारात्मकता और आशा होनी चाहिए।

तुम फिर से घोंसला बनाओगे और प्रेम से भरोगे। तुम इसे बार-बार करोगे।

व्याख्यायित अर्थ

यह एक सामान्य परिदृश्य है और सभी ने देखा होगा। जब तूफान सब कुछ नष्ट कर देता है, तब भी पक्षी गाते हैं। मुझे पक्षियों के बारे में “रोज कैनेडी” का एक उद्धरण याद है।

“Birds sing after a storm; why shouldn’t people feel as free to delight in whatever remains to them?”

— Rose Kennedy

इस छंद में कवि हरिवंश राय बच्चन पक्षियों से प्रेरणा लेते हैं और उनसे पूछते हैं कि आप कितने साहसी और सकारात्मक हैं? आँधी में तेरा घोंसला उजड़ गया और धूप से तू फिर गाने लगी।

क्या ऐसा नहीं है कि एक कठिन समय के बाद या अपने सपने या अपने जीवन में कुछ खोने के बाद, एक इंसान के रूप में आपको खोई हुई चीजों के लिए रोने में समय बर्बाद नहीं करना चाहिए, लेकिन, जो आपके पास अभी भी है उसका जश्न मनाएं? क्या आपको फिर से प्रयास नहीं करना चाहिए? क्या आपको अपने सपनों पर फिर से काम नहीं करना चाहिए? इसके बारे में सोचो। यह एक महान प्रेरणा है जो आप पक्षियों से सीख सकते हैं।

नीड़ का निर्माण फिर-फिर, (तीसरा छंद)

क्रुद्ध नभ के वज्र दंतों
में उषा है मुसकराती,
घोर गर्जनमय गगन के
कंठ में खग पंक्ति गाती;

एक चिड़िया चोंच में तिनका
लि‌ए जो जा रही है,
वह सहज में ही पवन
उंचास को नीचा दिखाती!

नाश के दुख से कभी
दबता नहीं निर्माण का सुख
प्रलय की निस्तब्धता से
सृष्टि का नव गान फिर-फिर!

नीड़ का निर्माण फिर-फिर,
नेह का आह्वान फिर-फिर!

शाब्दिक अर्थ

हरिवंश राय बच्चन की नीड का निर्माण का यह पद आपको सकारात्मकता और आशा से भर देगा। वो कहते हैं, तूफानी रात के बाद एक खूबसूरत सुबह की आस होती है। बिजली गिरने से भरी तूफानी रात में आप एक खूबसूरत सुबह की कल्पना कर सकते हैं। गरजते बादल हैं और तुम एक सुंदर पक्षी गीत की आशा करते हो। गरजते मेघ के कंठ में छिपा है एक सुंदर पक्षी गीत।

एक पक्षी को देखो जो अपनी चोंच में एक टहनी लिए हुए है, वह बस हवाओं और तूफानों की ताकत को ललकार रही है। इस दृढ़निश्चयी पक्षी के सामने हवाओं की ताकत कुछ भी नहीं है।

विनाश का शोक निर्माण के आनंद को कभी दबा नहीं सकता। विनाश के बाद का मौन पुनर्निर्माण का समय है। विनाश खत्म होने के बाद, पुनर्निर्माण का सुंदर गीत आता है। अपने सपनों को फिर से बनाने का समय आ गया है।

व्याख्यायित अर्थ

इस छंद का अर्थ आशा है। जब बुरा समय आता है, तो आपको इस उम्मीद के साथ लड़ना और संघर्ष करना पड़ता है कि अच्छा समय आएगा। एक बुरी स्थिति में, यह स्थिति समाप्त होने के बाद समय की कल्पना करना हमेशा अच्छा होता है। एक पंक्ति में मैं कहूँगा “कोई भी स्थिति स्थायी नहीं होती। अच्छे समय और बुरे समय के लिए भी तैयार रहें।” सकारात्मकता की यह उम्मीद आपको लड़ने की वजह देती है।

कल्पना कीजिए, यदि आप बुरे समय से गुजर रहे हैं और आपको हमेशा लगता है कि सब कुछ खत्म हो गया है। आपको कभी लड़ने के लिए प्रोत्साहित नहीं किया जाएगा। यदि आप आशा खो देते हैं, तो आप सब कुछ खो देते हैं। यही है ना यदि आप कल्पना करते हैं कि बुरा समय बीत जाने के बाद, आप इसका आनंद लेंगे। आप स्थिति से लड़ेंगे।

छोटी चिड़िया से सीख लो, सब कुछ नष्ट हो जाने के बाद भी, वह अभी भी अपना घोंसला बनाने के लिए टहनी उठा रही है। यदि वह चिंता करती रहती है कि अगले तूफान में घोंसला फिर से नष्ट हो जाएगा, तो वह प्रयास नहीं करेगी।

अगर कुछ नष्ट हो जाता है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि आप इसे दोबारा नहीं बना सकते। विनाश की शक्ति ही पुन: सृजन का विचार देती है। मान लीजिए, अगर इस दुनिया में कुछ भी नष्ट नहीं होता है, तो आपको फिर से कुछ बनाने की आवश्यकता क्यों होगी?

इसलिए बार-बार अपने सपनों, अपने प्यार और अपनी आकांक्षाओं का निर्माण करते रहें। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वे कितनी बार टूटते हैं, लेकिन आपको हर बार उन्हें फिर से बनाने की जरूरत होती है।

हरिवंश राय बच्चन की कविता ~ नीड का निर्माण फिर फिर का संक्षिप्त सारांश

इस कविता में, हरिवंश राय बच्चन आपको सकारात्मकता और साहस के साथ अपना जीवन जीने के लिए प्रेरित और प्रोत्साहित करते हैं। जीवन में अच्छी और बुरी स्थितियां आती रहेंगी। खराब स्थिति के दौरान आपको उम्मीद रखने और हिम्मत से लड़ने की जरूरत है। एक छोटे पक्षी का उदाहरण लीजिए। अगर इतना छोटा पक्षी गा सकता है और तूफ़ान के बाद अपना घोंसला फिर से बना सकता है, तो आप क्यों नहीं?

अपने जीवन को सकारात्मकता से भरें और जो खो गया है उसके लिए रोएं नहीं। बल्कि जो आपके पास है उसका जश्न मनाएं। जिससे आपका जीवन सुखी और जीने लायक बनेगा।

उम्मीद है आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी। कृपया अपने विचार कमेंट करें और सुझाव दें।

हम सोशल मीडिया पर भी उपलब्ध हैं। हमारे पर का पालन करें।






About the Author

TAGS

Categories

Explore:

YouTube Channels


Our Other Sites:


Twitter Instagram


Leave a Comment

error:
Scroll to Top