झाँसी की रानी कविता के बोल और अर्थ | झाँसी की रानी कविता | ख़ूब लड़ी मर्दानी

Table of Contents

परिचय

झाँसी की रानी कविता भारतीय कवि और विचारक “सुभद्रा कुमारी चौहान” द्वारा लिखी गई है। वह प्रसिद्ध कवयित्री और लेखिका थीं। झाँसी की रानी कविता “सुभद्रा कुमारी चौहान” की सर्वश्रेष्ठ कविताओं में से एक है। उनका जन्म भारत के इलाहाबाद में हुआ था और वह 1921 में महात्मा गांधी द्वारा शुरू किए गए असहयोग आंदोलन में शामिल होने वाली पहली महिला थीं।

इस पोस्ट में हम झाँसी की रानी कविता के बोल और अर्थ पर गौर करेंगे। यह झाँसी की रानी कविता का अंग्रेजी में अर्थ के लिए एक पोस्ट है। उम्मीद है आपको पसंद आयेगा।

मैंने अपनी लिखने की सुविधा और सबकी पढ़ने की सुविधा के लिए इसे भागों में बाँट दिया है। हर छंद में आप बुंदेलों और हरबोलों के बारे में पढ़ेंगे। आइए मैं आपको बताता हूं कि ये बुंदेले और हरबोले कौन हैं।

झाँसी की रानी कविता | झाँसी की रानी कविता | झाँसी की रानी कविता गीत | झाँसी की रानी कविता के बोल और अर्थ | झाँसी की रानी कविता का अंग्रेजी में मतलब.

बुंदेले और हरबोले कौन हैं?

बुंदेले और हरबोले बुंदेला भाषा के लोक गायक थे। वे मुख्यतः भारत में बुन्देलखण्ड क्षेत्र के थे। इन लोक गायकों ने बुंदेली भाषा में अपने गीत लिखे।

ये बुंदेला और हरबोला गायक अलग-अलग स्थानों पर जाते थे और घर-घर जाकर अपने गीत गाते थे। ऐसा उन्होंने लोगों में जागरूकता बढ़ाने के लिए किया.

वे धोती, कुर्ता और सिर पर पगड़ी पहनते थे। वे डफ और मंजीरा लेकर चलते थे और जागरूकता बढ़ाने के लिए लोकगीत गाते थे। बदले में लोग उन्हें जो कुछ देते थे, उससे वे अपनी जीविका के लिए ले लेते थे।

भारत के स्वतंत्रता संग्राम में बुंदेलों और हरबोलों ने बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। वे ऐसे गीत गाते थे जो आज़ादी और ब्रिटिश शासन के अत्याचारों से संबंधित होते थे।

कुछ रचनाएँ हैं.

  • “बुंदेलखंड की जनता रोवे”, “भये राजा अत्याचारी, अंग्रेज़ों के गुलाम राजा, जिनके हम गुलाम भारी” – मतलब बुंदेलखण्ड की जनता रो रही है। राजा अत्याचारी हो गया है. राजा अंग्रेजों का नौकर है और हम अंग्रेजों के अधीन हैं।
  • कौ ने सेर भासे, काओ ने लावणी। अबकी हल्ला में फंकी जात है छावनी। – मतलब: किसी ने पूरा केजी खा लिया, तो किसी ने थोड़ा। इस विद्रोह में अंग्रेज़ों को उखाड़ फेंका जायेगा। ब्रिटिश प्रतिष्ठान के तंबू जला दिये जायेंगे।

1920 में महात्मा गांधी के स्वराज आंदोलन के दौरान उन्होंने पंक्ति लिखी थी: गांधीजी महात्मा नेग को मचाले, दैजे में मांगे स्वराज, ठाढ़ी सरकार विनती सुनावे। जीजा गांव में देहे स्वराज.

अर्थ: गांधीजी स्वराज मांग रहे हैं और ऐसा लगता है कि वह इसे दहेज में उपहार के रूप में मांग रहे हैं। ब्रिटिश सरकार कहती है कि हम तुम्हें दहेज में स्वराज देंगे।

ये बुंदेले और हरबोले आज भी बुन्देलखण्ड क्षेत्र में दीपावली के आसपास गीत गाते हैं।

झाँसी की रानी कविता के बोल (हिन्दी)

सिंहासन हिल उठे, राजवंशों ने भृकुटी तानी थी,
बूढ़े भारत में भी आयी फिर से नयी जवानी थी,
गुमी हुई आज़ादी की क़ीमत सबने पहचानी थी,
दूर फिरंगी को करने की सबने मन में ठानी थी,

चमक उठी सन् सत्तावन में
वह तलवार पुरानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

कानपूर के नाना की मुँहबोली बहन ‘छबीली’ थी,
लक्ष्मीबाई नाम, पिता की वह संतान अकेली थी,
नाना के संग पढ़ती थी वह, नाना के संग खेली थी,
बरछी, ढाल, कृपाण, कटारी उसकी यही सहेली थी,

वीर शिवाजी की गाथाएँ
उसको याद ज़बानी थीं।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

लक्ष्मी थी या दुर्गा थी वह स्वयं वीरता की अवतार,
देख मराठे पुलकित होते उसकी तलवारों के वार,
नकली युद्ध, व्यूह की रचना और खेलना ख़ूब शिकार,
सैन्य घेरना, दुर्ग तोड़ना, ये थे उसके प्रिय खिलवार,

महाराष्ट्र-कुल-देवी उसकी
भी आराध्य भवानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

हुई वीरता की वैभव के साथ सगाई झाँसी में,
ब्याह हुआ रानी बन आयी लक्ष्मीबाई झाँसी में,
राजमहल में बजी बधाई ख़ुशियाँ छायीं झाँसी में,
सुभट बुंदेलों की विरुदावलि-सी वह आयी झाँसी में,

चित्रा ने अर्जुन को पाया,
शिव से मिली भवानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

उदित हुआ सौभाग्य, मुदित महलों में उजयाली छायी,
किंतु कालगति चुपके-चुपके काली घटा घेर लायी,
तीर चलानेवाले कर में उसे चूड़ियाँ कब भायीं,
रानी विधवा हुई हाय! विधि को भी नहीं दया आयी,

निःसंतान मरे राजाजी
रानी शोक-समानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

बुझा दीप झाँसी का तब डलहौज़ी मन में हरषाया,
राज्य हड़प करने का उसने यह अच्छा अवसर पाया,
फ़ौरन फ़ौजें भेज दुर्ग पर अपना झंडा फहराया,
लावारिस का वारिस बनकर ब्रिटिश राज्य झाँसी आया,

अश्रुपूर्ण रानी ने देखा
झाँसी हुई बिरानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

अनुनय विनय नहीं सुनता है, विकट फिरंगी की माया,
व्यापारी बन दया चाहता था जब यह भारत आया,
डलहौज़ी ने पैर पसारे अब तो पलट गयी काया,
राजाओं नव्वाबों को भी उसने पैरों ठुकराया,

रानी दासी बनी, बनी यह
दासी अब महरानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

छिनी राजधानी देहली की, लिया लखनऊ बातों-बात,
क़ैद पेशवा था बिठूर में, हुआ नागपुर का भी घात,
उदैपूर, तंजोर, सतारा, करनाटक की कौन बिसात,
जबकि सिंध, पंजाब, ब्रह्म पर अभी हुआ था वज्र-निपात,

बंगाले, मद्रास आदि की
भी तो यही कहानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

रानी रोयीं रनिवासों में बेगम ग़म से थीं बेज़ार
उनके गहने-कपड़े बिकते थे कलकत्ते के बाज़ार,
सरे-आम नीलाम छापते थे अंग्रेज़ों के अख़बार,
‘नागपूर के जेवर ले लो’ ‘लखनऊ के लो नौलख हार’,

यों परदे की इज़्ज़त पर—
देशी के हाथ बिकानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

कुटियों में थी विषम वेदना, महलों में आहत अपमान,
वीर सैनिकों के मन में था, अपने पुरखों का अभिमान,
नाना धुंधूपंत पेशवा जुटा रहा था सब सामान,
बहिन छबीलीनेरण-चंडी का कर दिया प्रकट आह्वान,

हुआ यज्ञ प्रारंभ उन्हें तो
सोयी ज्योति जगानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

महलों ने दी आग, झोंपड़ी ने ज्वाला सुलगायी थी,
यह स्वतंत्रता की चिनगारी अंतरतम से आयी थी,
झाँसी चेती, दिल्ली चेती, लखनऊ लपटें छायी थीं,
मेरठ, कानपूर, पटना ने भारी धूम मचायी थी,

जबलपूर, कोल्हापुर में भी
कुछ हलचल उकसानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

इस स्वतंत्रता-महायज्ञ में कई वीरवर आये काम
नाना धुंधूपंत, ताँतिया, चतुर अजीमुल्ला सरनाम,
अहमद शाह मौलवी, ठाकुर कुँवरसिंह सैनिक अभिराम,
भारत के इतिहास-गगन में अमर रहेंगे जिनके नाम,

लेकिन आज जुर्म कहलाती
उनकी जो क़ुरबानी थी।
बुंदेले हरबालों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

इनकी गाथा छोड़ चलें हम झाँसी के मैदानों में,
जहाँ खड़ी है लक्ष्मीबाई मर्द बनी मर्दानों में,
लेफ़्टिनेंट वॉकर आ पहुँचा, आगे बढ़ा जवानों में,
रानी ने तलवार खींच ली, हुआ द्वंद्व असमानों में,

ज़ख्मी होकर वॉकर भागा,
उसे अजब हैरानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

रानी बढ़ी कालपी आयी, कर सौ मील निरंतर पार
घोड़ा थककर गिरा भूमि पर, गया स्वर्ग तत्काल सिधार,
यमुना-तट पर अंग्रेज़ों ने फिर खायी रानी से हार,
विजयी रानी आगे चल दी, किया ग्वालियर पर अधिकार,

अंग्रेज़ों के मित्र सिंधिया
ने छोड़ी रजधानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

विजय मिली, पर अंग्रेज़ों की फिर सेना घिर आयी थी,
अबके जनरल स्मिथ सन्मुख था, उसने मुँह की खायी थी,
काना और मंदरा सखियाँ रानी के सँग आयी थीं,
युद्ध क्षेत्र में उन दोनों ने भारी मार मचायी थी,

पर, पीछे ह्यूरोज़ आ गया,
हाय! घिरी अब रानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

तो भी रानी मार-काटकर चलती बनी सैन्य के पार,
किंतु सामने नाला आया, था वह संकट विषम अपार,
घोड़ा अड़ा, नया घोड़ा था, इतने में आ गये सवार,
रानी एक, शत्रु बहुतेरे, होने लगे वार पर वार,

घायल होकर गिरी सिंहनी
उसे वीर-गति पानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

रानी गयी सिधार, चिता अब उसकी दिव्य सवारी थी,
मिला तेज़ से तेज़, तेज़ की वह सच्ची अधिकारी थी,
अभी उम्र कुल तेइस की थी, मनुज नहीं अवतारी थी,
हमको जीवित करने आयी बन स्वतंत्रता नारी थी,

दिखा गयी पथ, सिखा गयी
हमको जो सीख सिखानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

जाओ रानी याद रखेंगे हम कृतज्ञ भारतवासी,
यह तेरा बलिदान जगावेगा स्वतंत्रता अविनाशी,
होवे चुप इतिहास, लगे सच्चाई को चाहे फाँसी,
हो मदमाती विजय, मिटा दे गोलों से चाहे झाँसी,

तेरा स्मारक तू ही होगी,
तू ख़ुद अमिट निशानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

~ Subhadra Kumari Chauhan

Jhansi Ki Rani Poem | Jhansi Ki Rani Kavita | Jhansi Ki Rani Poem Lyrics | Jhansi Ki Rani Poem Lyrics and Meaning | Jhansi ki rani poem meaning in English.

झाँसी की रानी कविता का अर्थ (भागों में)

भाग 1 ~ झाँसी की रानी कविता ~ झाँसी की रानी कविता के बोल और अर्थ

सिंहासन हिल उठे, राजवंशों ने भृकुटी तानी थी,
बूढ़े भारत में भी आयी फिर से नयी जवानी थी,
गुमी हुई आज़ादी की क़ीमत सबने पहचानी थी,
दूर फिरंगी को करने की सबने मन में ठानी थी,

चमक उठी सन् सत्तावन में
वह तलवार पुरानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥


कानपूर के नाना की मुँहबोली बहन ‘छबीली’ थी,
लक्ष्मीबाई नाम, पिता की वह संतान अकेली थी,
नाना के संग पढ़ती थी वह, नाना के संग खेली थी,
बरछी, ढाल, कृपाण, कटारी उसकी यही सहेली थी,

वीर शिवाजी की गाथाएँ
उसको याद ज़बानी थीं।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥


लक्ष्मी थी या दुर्गा थी वह स्वयं वीरता की अवतार,
देख मराठे पुलकित होते उसकी तलवारों के वार,
नकली युद्ध, व्यूह की रचना और खेलना ख़ूब शिकार,
सैन्य घेरना, दुर्ग तोड़ना, ये थे उसके प्रिय खिलवार,

महाराष्ट्र-कुल-देवी उसकी
भी आराध्य भवानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

Jhansi Ki Rani Poem | Jhansi Ki Rani Kavita | Jhansi Ki Rani Poem Lyrics | Jhansi Ki Rani Poem Lyrics and Meaning | Jhansi ki rani poem meaning in English.

भाग 1 का अर्थ ~ झाँसी की रानी कविता का अर्थ

ये पंक्तियाँ 1857 के प्रथम भारतीय विद्रोह की शुरुआत को दर्शाती हैं। ईस्ट इंडिया कंपनी ने देश में जो अशांति पैदा की थी।

अंग्रेजों के अत्याचारों से सिंहासन हिल गये। शाही परिवार क्रोधित और अशांति में थे। बूढ़े भारत में अब जवानी की लहर दिख रही थी। ऊर्जा नई और युवा थी। भारत के लोगों को अब आज़ादी की कीमत का एहसास हो गया था और वे आज़ादी के लिए लड़ने के लिए तैयार थे। सभी ने मन में ठान लिया था कि अंग्रेजों को भारत से हटाना है।

जो तलवार पुरानी हो गई थी वह वर्ष 1857 में फिर से चमकने लगी। बुंदेलों-हरबोला के मुँह हमने सुनी कहानी थी। कहानी झाँसी की रानी के बारे में है, और वह उल्लेख करती है कि वह “खूब लड़ी मर्दानी” थी – एक पुरुष की तरह उत्कृष्ट योद्धा, वह एक महिला थी।

वह कानपुर के “नाना साहब” की बहन थीं। सगी बहन तो नहीं लेकिन, मुंह बोली बहन. उत्तर नाना साहब उन्हें “छबीली” (जिसका अर्थ है कोक्वेट) कहा करते थे। उनका नाम लक्ष्मीबाई था और वह अपने पिता की इकलौती बेटी थीं।

वह कानपुर के “नाना साहब” के साथ पढ़ती और खेलती थी। और उसके साथी खंजर, ढाल, कृपाण और तलवारें थे। इसका मतलब है कि वह बचपन से ही लड़ना सीखती थीं।

उसे “वीर शिवाजी” की कहानियाँ कंठस्थ याद थीं।

वह या तो देवी लक्ष्मी या दुर्गा का रूप थीं या फिर स्वयं वीरता का अवतार थीं। उसके तलवार चलाने के तरीके से मराठा लड़ाके आश्चर्यचकित और प्रभावित दोनों थे।

उस उम्र में जब बच्चे खेल खेलते थे, वह मॉक बैटल, आर्मी फॉर्मेशन और ढेर सारे शिकार जैसे खेल खेलती थी। उनके पसंदीदा खेल सैन्य घेरा डालना और किलों पर सैन्य कब्जा करना था।

महाराष्ट्र की स्थानीय देवी वह देवी थी जिसकी पूजा वह अन्य योद्धाओं की तरह करती थी।

बुंदेलों और हरबोलों से हमने सुनी है ये कहानी। वह एक उत्कृष्ट योद्धा थी।

भाग 2 ~ झाँसी की रानी कविता

हुई वीरता की वैभव के साथ सगाई झाँसी में,
ब्याह हुआ रानी बन आयी लक्ष्मीबाई झाँसी में,
राजमहल में बजी बधाई ख़ुशियाँ छायीं झाँसी में,
सुभट बुंदेलों की विरुदावलि-सी वह आयी झाँसी में,

चित्रा ने अर्जुन को पाया,
शिव से मिली भवानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥


उदित हुआ सौभाग्य, मुदित महलों में उजयाली छायी,
किंतु कालगति चुपके-चुपके काली घटा घेर लायी,
तीर चलानेवाले कर में उसे चूड़ियाँ कब भायीं,
रानी विधवा हुई हाय! विधि को भी नहीं दया आयी,

निःसंतान मरे राजाजी
रानी शोक-समानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

बुझा दीप झाँसी का तब डलहौज़ी मन में हरषाया,
राज्य हड़प करने का उसने यह अच्छा अवसर पाया,
फ़ौरन फ़ौजें भेज दुर्ग पर अपना झंडा फहराया,
लावारिस का वारिस बनकर ब्रिटिश राज्य झाँसी आया,

अश्रुपूर्ण रानी ने देखा
झाँसी हुई बिरानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

अनुनय विनय नहीं सुनता है, विकट फिरंगी की माया,
व्यापारी बन दया चाहता था जब यह भारत आया,
डलहौज़ी ने पैर पसारे अब तो पलट गयी काया,
राजाओं नव्वाबों को भी उसने पैरों ठुकराया,

रानी दासी बनी, बनी यह
दासी अब महरानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

Jhansi Ki Rani Poem | Jhansi Ki Rani Kavita | Jhansi Ki Rani Poem Lyrics | Jhansi Ki Rani Poem Lyrics and Meaning | Jhansi ki rani poem meaning in English.

भाग 2 का अर्थ ~ झाँसी की रानी कविता का अर्थ

उनका विवाह झाँसी के राजा से हुआ था। कवि का कहना है कि वीरता ने झाँसी में समृद्धि से विवाह किया। विवाह के बाद लक्ष्मीबाई झाँसी की रानी बनकर झाँसी आ गईं। रॉयल पैलेस सभी खुश थे और हर कोई उन्हें आशीर्वाद दे रहा था। लक्ष्मीबाई झाँसी में उनकी बहादुरी की प्रशंसा या विस्तार के रूप में बहादुर बुंदेलों की भूमि पर आईं।

यह विवाह वैसा ही था जैसे वीर अर्जुन को वीर रानी चित्रा मिल गई, या उग्र शिव को उग्र भवानी मिल गई।

लक्ष्मीबाई का विवाह झाँसी के राजा “गंगाधर राव” से हुआ। शादी के बाद वह “झांसी की रानी” बन गईं। बुंदेले पहले से ही बहादुर थे और रानी भी उतनी ही बहादुर थीं, जितनी उनकी बहादुरी में और भी इजाफा हुआ।

यह वैसा ही था जैसे अर्जुन जैसे वीर पुरुष का विवाह वीर रानी चित्रा से हो। अथवा उग्र शिव का विवाह उग्र भवानी से होता है। दोनों एक दूसरे का समर्थन कर रहे हैं.

बुंदेलों और हरबोलों से हमने सुनी है ये कहानी। वह एक उत्कृष्ट योद्धा थी।

झाँसी में खुशहाली आ गई और महल में उजियारा छा गया। हालाँकि, समय की काली छाया ने इसे घेर लिया। जो हाथ धनुर्विद्या के आदी हैं, वे सुन्दर चूड़ियों से कैसे सजे होंगे। समय ने यहां दुखद भूमिका निभायी है. रानी (रानी की झाँसी) विधवा हो गयी और काल को भी उस पर दया नहीं आयी।

राजा बिना किसी उत्तराधिकारी के मर गया और रानी को बहुत दुःख हुआ।

जब झाँसी के राजा की मृत्यु हुई तो लॉर्ड डलहौजी प्रसन्न हुए। गंगाधर राव का कोई उत्तराधिकारी न होने के कारण उन्हें झाँसी राज्य पर कब्ज़ा करने का उचित मौका मिल गया। (मेरी पोस्ट ब्रेव क्वीन ऑफ़ झाँसी में डॉक्ट्रिन ऑफ़ लैप्स पढ़ें)। इसलिए, उन्होंने तुरंत अपनी सेना भेजी और झाँसी के किले पर ब्रिटिश झंडा फहराया। वह स्वयं को अनाथ राज्य का संरक्षक मानता था क्योंकि वहां राजा बनने के लिए कोई उत्तराधिकारी नहीं था।

आँसू भरी आँखों से रानी ने झाँसी छोड़ दी।

अंग्रेज इतने धूर्त थे कि अनुरोध भी नहीं सुन पाते थे। जबकि ईस्ट इंडिया कंपनी व्यापारियों के रूप में आई और भारत में अपनी कंपनी स्थापित करने और व्यापार करने के अधिकार के लिए शासकों से दया ली। लोर डलहौजी ने राज्यों के राजनीतिक मामलों में विस्तार और हस्तक्षेप करना शुरू कर दिया। यह ईस्ट इंडिया कंपनी का बदला हुआ चेहरा था। यहां तक कि उन्होंने राजाओं और नवाबों को भी अस्वीकार और नजरअंदाज कर दिया।

रानी अब एक गुलाम थी, यह गुलाम रानी श्रेष्ठ हो गई थी, क्योंकि उसे वापस लड़ने के लिए एक सेना खड़ी करनी थी।

बुंदेलों और हरबोलों से हमने सुनी है ये कहानी। वह एक उत्कृष्ट योद्धा थी।

भाग 3 ~ झाँसी की रानी कविता

छिनी राजधानी देहली की, लिया लखनऊ बातों-बात,
क़ैद पेशवा था बिठूर में, हुआ नागपुर का भी घात,
उदैपूर, तंजोर, सतारा, करनाटक की कौन बिसात,
जबकि सिंध, पंजाब, ब्रह्म पर अभी हुआ था वज्र-निपात,

बंगाले, मद्रास आदि की
भी तो यही कहानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

रानी रोयीं रनिवासों में बेगम ग़म से थीं बेज़ार
उनके गहने-कपड़े बिकते थे कलकत्ते के बाज़ार,
सरे-आम नीलाम छापते थे अंग्रेज़ों के अख़बार,
‘नागपूर के जेवर ले लो’ ‘लखनऊ के लो नौलख हार’,

यों परदे की इज़्ज़त पर—
देशी के हाथ बिकानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

कुटियों में थी विषम वेदना, महलों में आहत अपमान,
वीर सैनिकों के मन में था, अपने पुरखों का अभिमान,
नाना धुंधूपंत पेशवा जुटा रहा था सब सामान,
बहिन छबीली ने रण-चंडी का कर दिया प्रकट आह्वान,

हुआ यज्ञ प्रारंभ उन्हें तो
सोयी ज्योति जगानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥


महलों ने दी आग, झोंपड़ी ने ज्वाला सुलगायी थी,
यह स्वतंत्रता की चिनगारी अंतरतम से आयी थी,
झाँसी चेती, दिल्ली चेती, लखनऊ लपटें छायी थीं,
मेरठ, कानपूर, पटना ने भारी धूम मचायी थी,

जबलपूर, कोल्हापुर में भी
कुछ हलचल उकसानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

इस स्वतंत्रता-महायज्ञ में कई वीरवर आये काम
नाना धुंधूपंत, ताँतिया, चतुर अजीमुल्ला सरनाम,
अहमद शाह मौलवी, ठाकुर कुँवरसिंह सैनिक अभिराम,
भारत के इतिहास-गगन में अमर रहेंगे जिनके नाम,

लेकिन आज जुर्म कहलाती
उनकी जो क़ुरबानी थी।
बुंदेले हरबालों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

Jhansi Ki Rani Poem | Jhansi Ki Rani Kavita | Jhansi Ki Rani Poem Lyrics | Jhansi Ki Rani Poem Lyrics and Meaning | Jhansi ki rani poem meaning in English.

भाग 3 का अर्थ ~ झाँसी की रानी कविता का अर्थ

अंग्रेजों ने राजधानी दिल्ली पर कब्ज़ा कर लिया, उनके लिए लखनऊ पर कब्ज़ा करना आसान हो गया। उन्होंने विठूर में पेशवा को पकड़ लिया और नागपुर पर भी कब्ज़ा कर लिया। उदयपुर, तंजौर, सतारा, कर्नाटक को मौका ही नहीं मिला। जबकि, हाल ही में सिंध, पंजाब, ब्रम्ह पर हमला किया गया था।

यही कहानी बंगाल और मद्रास की भी थी।

रानी अपने आवास के अंदर रोती रहीं, बेगमें दुखी और टूटी रहीं। उनके गहने और कपड़े ईस्ट इंडिया द्वारा कोलकाता के बाज़ारों में बेचे जाते थे। गहनों और कपड़ों की नीलामी ब्रिटिश अखबारों में प्रकाशित हुई। उत्तर नीलामियाँ “नागपुर के आभूषण खरीदो” और “लखनऊ का हार लो” जैसी थीं। इस तरह लोगों की इज्जत विदेशियों के हाथ बिक गई.

ब्रिटिश शासन के कारण झोपड़ियों में रहने वाले लोग (सामान्य जनता) अशांति और पीड़ा में थे। राजघराने अपमानित महसूस करने लगे। वीर जवानों को अपने पूर्वजों पर गर्व था। यह सब विद्रोह की शुरुआत का कारण बना। पेशवा नाना साहेब द्वितीय (जन्म धोंधू पंत) इस विद्रोह के लिए सभी आवश्यक सामग्री एकत्र कर रहे थे। उत्तर उनकी बहन छबीली (लक्ष्मीबाई, झाँसी की रानी) ने एक भयंकर योद्धा देवी की भूमिका निभाई है।

लड़ाई और प्रयास इसलिए शुरू हुए क्योंकि उन्हें हर व्यक्ति को रोशन करना था और जगाना था।

महलों ने आग दी और स्थानीय लोग विद्रोह का हिस्सा बन गये। यह आजादी की वह चमक थी जो लोगों के अंतर्मन से उपजी थी। हर कोई ब्रिटिश शासन से मुक्त होना चाहता था। झाँसी सतर्क हो गयी, दिल्ली सतर्क हो गयी और आज़ादी की आग लखनऊ तक भी फैल गयी। मेरठ, कानपुर, पटना पर भी इसका असर था और ये धमाके जैसा था. जबलपुर और कोल्हापुर में भी कुछ हलचल हुई.

तप और अग्नि के समान इस स्वतंत्रता संग्राम में अनेक वीरों ने अपनी जान गंवाई। नाना साहब, तांतिया टोपे, अज़ीमुल्ला सरनाम, अहमद शाह मौलवी, ठाकुर कुँवर सिंह आदि भारतीय इतिहास में सदैव याद किये जायेंगे।

लेकिन आज उनके बलिदान और आज़ादी की लड़ाई को पाप कहा जाता है। (क्योंकि हम मानते हैं कि हमें आज़ादी अहिंसा से मिली)

भाग 4 ~ झाँसी की रानी कविता (झाँसी की रानी की वीरता)

इनकी गाथा छोड़ चलें हम झाँसी के मैदानों में,
जहाँ खड़ी है लक्ष्मीबाई मर्द बनी मर्दानों में,
लेफ़्टिनेंट वॉकर आ पहुँचा, आगे बढ़ा जवानों में,
रानी ने तलवार खींच ली, हुआ द्वंद्व असमानों में,

ज़ख्मी होकर वॉकर भागा,
उसे अजब हैरानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

रानी बढ़ी कालपी आयी, कर सौ मील निरंतर पार
घोड़ा थककर गिरा भूमि पर, गया स्वर्ग तत्काल सिधार,
यमुना-तट पर अंग्रेज़ों ने फिर खायी रानी से हार,
विजयी रानी आगे चल दी, किया ग्वालियर पर अधिकार,

अंग्रेज़ों के मित्र सिंधिया
ने छोड़ी रजधानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

विजय मिली, पर अंग्रेज़ों की फिर सेना घिर आयी थी,
अबके जनरल स्मिथ सन्मुख था, उसने मुँह की खायी थी,
काना और मंदरा सखियाँ रानी के सँग आयी थीं,
युद्ध क्षेत्र में उन दोनों ने भारी मार मचायी थी,

पर, पीछे ह्यूरोज़ आ गया,
हाय! घिरी अब रानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

Jhansi Ki Rani Poem | Jhansi Ki Rani Kavita | Jhansi Ki Rani Poem Lyrics | Jhansi Ki Rani Poem Lyrics and Meaning | Jhansi ki rani poem meaning in English.

भाग 4 का अर्थ ~ झाँसी की रानी कविता का अर्थ

हम इस विषय को अभी छोड़ते हैं और मैं आपको झाँसी के युद्धक्षेत्र में ले चलता हूँ। वह स्थान जहाँ झाँसी की रानी सभी पुरुषों के बीच एक पुरुष की तरह खड़ी है। यही कारण है कि सुभद्रा कुमारी चौहान उन्हें “मर्दानी” कहती हैं। मर्दानी का हिंदी में मतलब होता है मर्दाना गुणों वाली महिला। क्योंकि अब तक की लड़ाइयों को केवल पुरुषों के लिए ही माना जाता था और लक्ष्मीबाई यह लड़ाई आज़ादी के लिए लड़ रही थीं।

लेफ्टिनेंट वॉकर जो ब्रिटिश सेना का नेतृत्व कर रहे थे, अपनी सेना से आगे आये। झाँसी की रानी ने तलवार निकाल ली और भयंकर युद्ध हुआ। वॉकर घायल हो गया और पीछे हट गया। वह झाँसी की रानी की युद्ध कला और वीरता से आश्चर्यचकित थे।

रानी आगे बढ़ीं और अपने घोड़े पर बैठकर लगभग 150 किलोमीटर की यात्रा करके कालपी पहुंचीं। घोड़ा थका हुआ और घायल था। घोड़ा गिरकर मर गया। यह लड़ाई यमुना नदी के तट पर लड़ी गई और अंग्रेज़ फिर से हार गए।

विजयी रानी आगे बढ़ी और ग्वालियर पर कब्ज़ा कर लिया। अंग्रेज़ों के मित्र सिन्धिया लोग राजधानी छोड़कर भाग गये थे।

रानी विजयी रहीं, हालाँकि, ब्रिटिश सेना ने उन्हें फिर से घेर लिया। इस बार उनके सामने जनरल स्मिथ थे और वे बुरी तरह हार गये। उसके दो मित्र काना और मंदरा उससे युद्ध कर रहे थे। ये दोनों मित्र काना और मंदरा भी युद्ध में क्रोधित थे और वीरतापूर्वक लड़े। उन्होंने कई ब्रिटिश सैनिकों को मार डाला।

लेकिन, तभी जनरल ह्यूरोज़ प्रवर्तन दल के साथ आये और रानी को घेर लिया गया,

Part 5 ~ Jhansi ki Rani Poem

तो भी रानी मार-काटकर चलती बनी सैन्य के पार,
किंतु सामने नाला आया, था वह संकट विषम अपार,
घोड़ा अड़ा, नया घोड़ा था, इतने में आ गये सवार,
रानी एक, शत्रु बहुतेरे, होने लगे वार पर वार,

घायल होकर गिरी सिंहनी
उसे वीर-गति पानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

रानी गयी सिधार, चिता अब उसकी दिव्य सवारी थी,
मिला तेज़ से तेज़, तेज़ की वह सच्ची अधिकारी थी,
अभी उम्र कुल तेइस की थी, मनुज नहीं अवतारी थी,
हमको जीवित करने आयी बन स्वतंत्रता नारी थी,

दिखा गयी पथ, सिखा गयी
हमको जो सीख सिखानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

Jhansi Ki Rani Poem | Jhansi Ki Rani Kavita | Jhansi Ki Rani Poem Lyrics | Jhansi Ki Rani Poem Lyrics and Meaning | Jhansi ki rani poem meaning in English.

भाग 5 का अर्थ~ झाँसी की रानी कविता का अर्थ

झाँसी की रानी चारों तरफ से घिर गई, लेकिन उन्होंने उनमें से कई को मार डाला और युद्ध के मैदान से दूर चली गईं। बहुत से सैनिक मारे गए और रानी को चोट लगी, इसलिए उन्होंने फिलहाल युद्ध से दूर जाने का फैसला किया। हालाँकि, रास्ते में एक खाई थी, जिसे पार करना कठिन था। घोड़ा नया था, और वह खड़ा रहा और खाई को पार नहीं कर सका। रानी फंस गयी और पीछे से सेना और सवार आ गये।

रानी अकेली थी और शत्रु सैनिक बहुत थे और वे रानी पर चारों ओर से आक्रमण करने लगे। रानी घायल हो गयी और घायल शेरनी की भाँति गिर पड़ी। वह एक शहीद के रूप में मर गईं।

यदि आप जानना चाहते हैं कि रानी लक्ष्मीबाई की मृत्यु कैसे हुई, तो रानी लक्ष्मीबाई पर मेरी पोस्ट पढ़ें।

अब रानी मर चुकी थी, और उसका अंतिम प्रबुद्ध वाहन अंतिम संस्कार की अग्नि थी। रानी की चमक आग की चमक के साथ मिल गई और वह इसकी हकदार थी।

रानी ने ये सभी लड़ाइयाँ और युद्ध लड़े, ये सब उन्होंने महज़ 23 साल की उम्र में किया था। वो कोई इंसान नहीं थीं; वह अवश्य ही कोई अवतार रही होगी. वह सबको आजादी के लिए जगाने वाली थी, वह खुद आजादी का प्रतीक थी।

उन्होंने देश को जीने का मार्ग प्रशस्त किया और दिखाया। सम्मान और गौरव से जीने का तरीका.

भाग 6 ~ झाँसी की रानी कविता ~ जाओ रानी याद रखेंगे

जाओ रानी याद रखेंगे हम कृतज्ञ भारतवासी,
यह तेरा बलिदान जगावेगा स्वतंत्रता अविनाशी,
होवे चुप इतिहास, लगे सच्चाई को चाहे फाँसी,
हो मदमाती विजय, मिटा दे गोलों से चाहे झाँसी,

तेरा स्मारक तू ही होगी,
तू ख़ुद अमिट निशानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह
हमने सुनी कहानी थी।
ख़ूब लड़ी मर्दानी वह तो
झाँसी वाली रानी थी॥

Jhansi Ki Rani Poem | Jhansi Ki Rani Kavita | Jhansi Ki Rani Poem Lyrics | Jhansi Ki Rani Poem Lyrics and Meaning | Jhansi ki rani poem meaning in English.

भाग 6 का अर्थ ~ झाँसी की रानी कविता का अर्थ

हे! रानी, जब आप अपनी मृत्यु के बाद दूसरी दुनिया में जाएंगी, तो सभी भारतीय आपको याद करेंगे, क्योंकि हम आपके बलिदान के प्रति समर्पित हैं। आपका यह बलिदान स्वतंत्रता आंदोलन का नेतृत्व करेगा। (क्योंकि यह कविता आज़ादी से पहले लिखी गयी थी).

भले ही इतिहास अपना मुँह बंद कर ले, भले ही सत्य को फाँसी पर लटका कर मार दिया जाये, भले ही ब्रिटिश सेना युद्ध जीत जाये या झाँसी को तोपों से पूरी तरह नष्ट कर दे, आप अपने स्मरण के स्मारक स्वयं बने रहेंगे, आप सदैव अपना प्रतीक बने रहेंगे , और जिसे नष्ट नहीं किया जा सकता।

बुंदेलों और हरबोलों से सुनी यह कहानी। कि आप एक अनुकरणीय योद्धा (मर्दाना शक्ति वाली महिला) थीं। तुम तो झाँसी की रानी थी.

झाँसी की रानी कविता का सारांश

इस कविता में हमने सुभद्रा कुमारी चौहान से झाँसी की रानी के बारे में पढ़ा। यह कविता उनके प्रारंभिक जीवन, विवाह, उनके पति की मृत्यु, 1857 के विद्रोह में उनकी भूमिका, युद्ध में उनकी बहादुरी और उनकी मृत्यु कैसे हुई, को दर्शाती है।

उनका बलिदान सदैव याद रखा जायेगा। इस कविता का अनुवाद करना मेरी ओर से एक छोटा सा प्रयास था। हालाँकि, वह मेरे शब्दों या किसी भी अन्य शब्द से महान थी। वह वीरता और बलिदान की मिसाल थीं.


तस्वीरों में झाँसी की रानी कविता

Leave a Comment

error: Content is protected !!
Scroll to Top