Rashmirathi Chapter 3 Part 4 | Krishna Tries to Persuade Karna | Final Step to Stop the War

भगवान सभा को छोड़ चले,
करके रण गर्जन घोर चले
सामने कर्ण सकुचाया सा,
आ मिला चकित भरमाया सा
हरि बड़े प्रेम से कर धर कर,
ले चढ़े उसे अपने रथ पर
 
रथ चला परस्पर बात चली,
शम-दम की टेठी घात चली,
शीतल हो हरि ने कहा, “हाय,
अब शेष नही कोई उपाय
हो विवश हमें धनु धरना है,
क्षत्रिय समूह को मरना है
 
“मैंने कितना कुछ कहा नहीं?
विष-व्यंग कहाँ तक सहा नहीं?
पर, दुर्योधन मतवाल्रा है,
कुछ नहीं समझने वाला है
 चाहिए उसे बस रण केवल,
सारी धरती कि मरण केवल
 
“हे वीर ! तुम्हीं बोलो अकाम,
क्या वस्तु बड़ी थी पाँच ग्राम?
वह भी कौरव को भारी है,
 मति गई मूढ़ की मरी है
दुर्योधन को बोधूं कैसे?
इस रण को अवरोधूं कैसे?
 
“सोचो क्या दृश्य विकट होगा,
रण में जब काल प्रकट होगा? बा
हर शोणित की तप्त धार,
भीतर विधवाओं की पुकार
निरशन, विषण्ण बिल्‍्लायेंगे,
बच्चे अनाथ चिल्लायेंगे
 
“चिंता है, मैं क्या और करूं?
शान्ति को छिपा किस ओट धरुूँ?
सब राह बंद मेरे जाने,
हाँ एक बात यदि तू माने,
तो शान्ति नहीं जल सकती है,
समराग्नि अभी तल सकती है
 
“पा तुझे धन्य है दुर्योधन,
तू एकमात्र उसका जीवन
तेरे बल की है आस उसे,
तुझसे जय का विश्वास उसे
तू संग न उसका छोडेगा,
वह क्यों रण से मुख मोड़ेगा?
 
“क्या अघटनीय घटना कराल?
तू पृथा-कुक्षी का प्रथम लाल,
बन सूत अनादर सहता है,
कौरव के दल में रहता है,
शर-चाप उठाये आठ प्रहार,
पांडव से लड़ने हो तत्पर
 
“माँ का सनेह पाया न कभी,
 सामने सत्य आया न कभी,
किस्मत के फेरे में पड़ कर,
पा प्रेम बसा दुश्मन के घर
निज बंधू मानता है पर को,
कहता है शत्रु सहोदर को
 
“पर कौन दोष इसमें तेरा?
अब कहा मान इतना मेरा
चल होकर संग अभी मेरे,
है जहाँ पाँच भ्राता तेरे
बिछुड़े भाई मित्र जायेंगे,
हम मिलकर मोद मनाएंगे
 
“कुन्ती का तू ही तनय ज्येष्ठ,
बल बुद्धि, शील में परम श्रेष्ठ
मस्तक पर मुकुट धरेंगे हम,
तेरा अभिषेक करेंगे हम
आरती समोद उतारेंगे,
सब मिलकर पाँव पखारेंगे
 
“पद-त्राण भीम पहनायेगा,
धर्माचिप चंवर ड्ुल्ायेगा
पहरे पर पार्थ प्रवर होंगे,
सहदेव-नकुल्र अनुचर होंगे
भोजन उत्तरा बनायेगी,
पांचाली पान खिलायेगी
 
“आहा ! क्या दृश्य सुभग होगा !
आनंद-चमत्कृत जग होगा
सब लोग तुझे पहचानेंगे,
असली स्वरूप में जानेंगे
खोयी मणि को जब पायेगी,
 कुन्ती फूली न समायेगी
 
“रण अनायास रुक जायेगा,
कुरुराज स्वयं झुक जायेगा
 संसार बड़े सुख में होगा,
कोई न कहीं दुःख में होगा
सब गीत खुशी के गायेंगे,
तेरा सौभाग्य मनाएंगे
 
“कुरुराज्य समर्पण करता हूँ.
साम्राज्य समर्पण करता हूँ
यश मुकुट मान सिंहासन ले,
बस एक भीख मुझको दे दे
कौरव को तज रण रोक सखे,
 भू का हर भावी शोक सखे
 
सुन-सुन कर कर्ण अधीर हुआ,
क्षण एक तनिक गंभीर हुआ,
फिर कहा ‘बड़ी यह माया है,
जो कुछ आपने बताया है
दिनमणि से सुनकर वही कथा
मैं भोग चुका हूँ ग्लानि व्यथा
“मैं ध्यान जन्म का धरता हूँ
उन्‍मन यह सोचा करता हूँ.
कैसी होगी वह माँ कराल,
निज तन से जो शिशु को निकाल
धाराओं में धर आती है,
अथवा जीवित दफनाती है?
 
“सेवती मास दस तक जिसको,
पालती उदर में रख जिसको,
जीवन का अंश खिलाती है,
अन्तर का रुधिर पिलाती है
आती फिर उसको फ्रक कहीं,
नागिन होगी वह नारि नहीं

Leave a Comment

error: Content is protected !!
Scroll to Top