जीना हो तो मरने से नहीं डरो रे कविता | रामधारी सिंह दिनकर

“जीना हो तो मरने से नहीं डरो रे” कविता भारत के प्रसिद्ध कवि – रामधारी सिंह दिनकर की हिंदी में लिखी गई कविता है। यह मानव जाति को प्रोत्साहित करने और जीवन की बाधाओं से संघर्ष करने और लड़ने के लिए सकारात्मक ऊर्जा भरने वाली कविता है।

हम कविता के अर्थ पर गौर करेंगे और उसमें निहित शक्ति के भाव को लाने का प्रयास करेंगे। आशा है कि आप अनुवाद और मेरे द्वारा किए गए प्रयास को पसंद करेंगे।

जीना हो तो मरने से नहीं डरो रे कविता के बोल

~ जीना हो तो मरने से नहीं डरो रे ~

वैराग्य छोड़ बाँहों की विभा सम्भालो,
चट्टानों की छाती से दूध निकालो,
है रुकी जहाँ भी धार,
शिलाएँ तोड़ो,
पीयूष चन्द्रमाओं का पकड़ निचोड़ो ।


चढ़ तुँग शैल शिखरों पर सोम पियो रे !
योगियों नहीं विजयी के सदृश जियो रे !


जब कुपित काल धीरता त्याग जलता है,
चिनगी बन फूलों का पराग जलता है,
सौन्दर्य बोध बन नई आग जलता है,
ऊँचा उठकर कामार्त्त राग जलता है ।

अम्बर पर अपनी विभा प्रबुद्ध करो रे !
गरजे कृशानु तब कँचन शुद्ध करो रे !


जिनकी बाँहें बलमयी ललाट अरुण है,
भामिनी वही तरुणी, नर वही तरुण है,
है वही प्रेम जिसकी तरँग उच्छल है,
वारुणी धार में मिश्रित जहाँ गरल है ।

उद्दाम प्रीति बलिदान बीज बोती है,
तलवार प्रेम से और तेज होती है !


छोड़ो मत अपनी आन, सीस कट जाए,
मत झुको अन्याय
पर भले व्योम फट जाए,
दो बार नहीं यमराज कण्ठ धरता है,
मरता है जो एक ही बार मरता है ।

तुम स्वयं मृत्यु के मुख पर चरण धरो रे !
जीना हो तो मरने से नहीं डरो रे !


स्वातन्त्रय जाति की लगन व्यक्ति की धुन है,
बाहरी वस्तु यह नहीं भीतरी गुण है !
वीरत्व छोड़ पर का मत चरण गहो रे
जो पड़े आन खुद ही सब आग सहो रे!

जब कभी अहम पर नियति चोट देती है,
कुछ चीज़ अहम से बड़ी जन्म लेती है,
नर पर जब भी भीषण विपत्ति आती है,
वह उसे और दुर्धुर्ष बना जाती है ।

चोटें खाकर बिफरो, कुछ अधिक तनो रे !
धधको स्फुलिंग में बढ़ अंगार बनो रे !


उद्देश्य जन्म का नहीं कीर्ति या धन है,
सुख नहीं धर्म भी नहीं, न तो दर्शन है,
विज्ञान ज्ञान बल नहीं, न तो चिन्तन है,
जीवन का अन्तिम ध्येय स्वयं जीवन है ।


सबसे स्वतन्त्र रस जो भी अनघ पिएगा !
पूरा जीवन केवल वह वीर जिएगा !

~ Ramdhari Sing Dinkar

जीना हो तो मरने से नहीं डरो रे कविता का अर्थ

मैंने अपनी भाषा की समझ और कविता से जो कुछ समझ पाया, उसको कविता के अर्थ के रूप में लिखा है। आशा है आपको पसंद आएगा।

दिनकर की कविता जीना है तो मरने से नहीं डरो रे

जीना हो तो मरने से नहीं डरो रे कविता का अर्थ – 1

वैराग्य छोड़ बाँहों की विभा सम्भालो,
चट्टानों की छाती से दूध निकालो,
है रुकी जहाँ भी धार,
शिलाएँ तोड़ो,
पीयूष चन्द्रमाओं का पकड़ निचोड़ो ।


चढ़ तुँग शैल शिखरों पर सोम पियो रे !
योगियों नहीं विजयी के सदृश जियो रे !

~ Ramdhari Sing Dinkar

सब कुछ छोड़कर वैराग्य के मार्ग पर न लग जायें। बल्कि उस शक्ति पर भरोसा करें जो आपके हाथों में है। अपने हाथों के बल पर कठोर चट्टानों से दूध निकालो। इसका मतलब है कि अंतिम परिणाम देने वाले किसी भी काम को करने में अपनी पूरी शक्ति लगाना। डर के मारे कुछ भी मत छोड़ो, तुम यह नहीं कर सकते। यदि आपको कोई सपना मिला है, तो अपने प्रयासों में लग जाएं।

जो कुछ भी नदी के प्रवाह को रोक रहा है, वहां पत्थर को तोड़ दो। इसका मतलब है कि आपको अपनी सफलता के मार्ग को अवरुद्ध करने वाली किसी भी बाधा को तोड़ने या दूर करने की आवश्यकता है। वही बाधा आपके मार्ग को अवरुद्ध कर रही है और आपको इसे दूर करने की आवश्यकता है। आप अपने आप को उन चुनौतियों से पार पाने के लिए पर्याप्त रूप से मजबूत बनाते हैं जो आपकी सफलता की राह को रोक रही हैं या आपके सपने को सच होने से रोक रही हैं।

चन्द्रमा का अमृत निचोड़ कर पीयें। पहाड़ों की ऊंचाइयों पर पहुंचें और चंद्रमा का मीठा अमृत पिएं। रामधारी सिंह दिनकर कविता में अतिशयोक्ति का प्रयोग कर रहे हैं। वह आपके सपनों की तुलना चांद और पहाड़ों से कर रहा है। अपने सपने ऊंचे रखें और अपने सपने के परिणाम पाने के लिए आपको ऊंचाई तक पहुंचने की जरूरत है। मेहनत से आपकी उपलब्धि का फल मीठा अमृत है।

आगे दिनकर कविता के माध्यम से बताते हैं कि एक योगी या किसी ऐसे व्यक्ति की तरह नहीं रहते जो सांसारिक सब कुछ छोड़ देता है। बल्कि एक विजेता या एक उपलब्धि हासिल करने वाले की तरह जिएं।

जीना हो तो मरने से नहीं डरो रे कविता का अर्थ – 2

जब कुपित काल धीरता त्याग जलता है,
चिनगी बन फूलों का पराग जलता है,
सौन्दर्य बोध बन नई आग जलता है,
ऊँचा उठकर कामार्त्त राग जलता है ।

अम्बर पर अपनी विभा प्रबुद्ध करो रे !
गरजे कृशानु तब कँचन शुद्ध करो रे !

~ Ramdhari Sing Dinkar

जब विनाश की मूक और क्रोधित शक्ति (या कोई जिसके पास विनाश की शक्ति है) अपना धैर्य छोड़ देती है। जब एक शक्तिशाली बल का धैर्य समाप्त हो जाता है, तो फूल का मीठा अमृत चिंगारी में बदल जाता है और जल जाता है। सौंदर्य की सराहना करने वाली वही भावना हिंसक आग में बदल जाती है। कर्म की भावना या आवाज ऊंची उठती है और परिवर्तन का गीत गाती है।

इसका मतलब यह है कि जब समय कठिन होता है और धैर्य अपनी सीमा तक पहुंच जाता है, तो एक व्यक्ति जो अवरोध को तोड़ना चाहता है वह खुद को आग लगा लेता है और सभी बाधाओं को तोड़ देता है। अगर इंसान मेहनत और संघर्ष में यकीन रखता है तो बुरा वक्त उसे जुझारू बना देता है।

इसलिए, कवि पाठक से कठिन समय से लड़ने का आग्रह करता है। यदि आप उठना चाहते हैं, तो आग को अपने हृदय में धारण करें और सभी बाधाओं को तोड़ दें।

आसमान की ओर उठो और अपना माहौल फैलाओ। जब बिजली गिरती है, तो सोने को शुद्ध करने का यह सबसे अच्छा समय होता है। इसका मतलब है कि आपको आसमान में उठने की जरूरत है और दुनिया को बताएं कि आप कौन हैं। उठने का सबसे अच्छा समय या सफल होने का सबसे अच्छा समय तब होता है जब समय कठिन होता है। कठिन समय का प्रतीक बिजली की चमक है और सोना आप हैं। जब तक बुरा या कठिन समय है, तब तक आप उठ नहीं सकते।

जीना हो तो मरने से नहीं डरो रे कविता का अर्थ – 3

जिनकी बाँहें बलमयी ललाट अरुण है,
भामिनी वही तरुणी, नर वही तरुण है,
है वही प्रेम जिसकी तरँग उच्छल है,
वारुणी धार में मिश्रित जहाँ गरल है ।

उद्दाम प्रीति बलिदान बीज बोती है,
तलवार प्रेम से और तेज होती है !

~ Ramdhari Sing Dinkar

जिनके पास सूर्य के समान शक्तिशाली भुजाएँ और मस्तक हैं। वास्तविक अर्थों में वह स्त्री महिमामयी स्त्री है और वह पुरुष वास्तविक पुरुषार्थ वाला है। वह प्रेम ही वास्तविक प्रेम है जो शक्ति द्वारा समर्थित है और वाइब्स शक्तिशाली हैं। वह प्रेम परिपूर्ण है जहां मृत्यु की शक्ति या भाव प्रेम के साथ बहता है।

एक तरह से कवि रामधारी सिंह दिनकर कहना चाहते हैं कि स्त्री या पुरुष होने के लिए आपको अपनी भुजाओं की शक्ति पर विश्वास होना चाहिए। शक्ति की भावना या गर्व की भावना के बिना, एक पुरुष या एक महिला मृत के समान है। एक प्रेमी जो पर्याप्त शक्तिशाली नहीं है या अपने सपनों को हासिल नहीं कर पाया है वह खुद को दुनिया से बचाने में सक्षम नहीं होगा।

एक दिमाग जो हासिल करने के लिए नियत है और जानता है कि कड़ी मेहनत से परिणाम मिलते हैं। परिश्रम का प्रेम मनुष्य को त्याग की प्रेरणा देता है। उसकी सिद्धियों के लिए सांसारिक वस्तुओं का त्याग कर देते हैं। प्रेम की रक्षा करनी हो तो तलवार तेज हो जाती है।

“जीना हो तो मरे से नहीं डरो रे” कविता की यही खूबसूरती है। दो परस्पर विरोधी भावनाएँ हैं, प्रेम और वीरता। यदि आप प्यार करते हैं, तो आपको प्यार की रक्षा के लिए तैयार रहने की जरूरत है। उदाहरण: यदि आप अपने देश से प्यार करते हैं, तो आपके पास एक बहादुर सैनिक होना चाहिए जो देश के लिए लड़ सके। इसलिए, प्रेम और शक्ति दो अलग-अलग भावनाओं को कविता में खूबसूरती से वर्णित किया गया है।

जीना हो तो मरने से नहीं डरो रे कविता का अर्थ – 4

छोड़ो मत अपनी आन, सीस कट जाए,
मत झुको अन्याय
पर भले व्योम फट जाए,
दो बार नहीं यमराज कण्ठ धरता है,
मरता है जो एक ही बार मरता है ।

तुम स्वयं मृत्यु के मुख पर चरण धरो रे !
जीना हो तो मरने से नहीं डरो रे !

~ Ramdhari Sing Dinkar

अपना अभिमान और वृत्ति भी मत छोड़ो, तुम्हारा सिर कट रहा है। चाहे आकाश फट पड़े और टुकड़े-टुकड़े हो जाए, अन्याय के आगे मत झुकना। यम (मृत्यु के देवता) आपका गला दो बार नहीं पकड़ते। वह जो केवल एक बार मरता है। आप मौत के चेहरे पर कदम रखते हैं। जीना है तो मौत से मत डरो।

कवि आग्रह और प्रेरणा देता है कि परिस्थितियाँ बदतर होने पर भी आत्मसम्मान और वृत्ति को न छोड़ें। भले ही दुनिया खत्म होने वाली हो, अन्याय के सामने आत्मसमर्पण मत करो। न्याय के लिए लड़ते हुए मरो। मौत आपको सिर्फ एक बार मारती है। आप दो बार नहीं मरते। इसलिए, अन्याय से लड़ने के लिए भले ही अपनी जान की कीमत चुकानी पड़े, सभी प्रयास करें।

यदि आप अन्याय के सामने आत्मसमर्पण कर देते हैं या अपना अहंकार छोड़ देते हैं, तो आप मरने से बेहतर कुछ नहीं हैं। इसलिए यदि आप गर्व और सम्मान के साथ जीना चाहते हैं तो मृत्यु से मत डरिए। यदि आप जिस तरह से जीना चाहते हैं, उसके लिए लड़ें, यहां तक ​​कि इसके लिए मरें। यदि आप चाहते हैं कि आपका जीवन अद्भुत हो तो मृत्यु से न डरें।

जीना हो तो मरने से नहीं डरो रे कविता का अर्थ – 5

स्वातन्त्रय जाति की लगन व्यक्ति की धुन है,
बाहरी वस्तु यह नहीं भीतरी गुण है !
वीरत्व छोड़ पर का मत चरण गहो रे
जो पड़े आन खुद ही सब आग सहो रे!

जब कभी अहम पर नियति चोट देती है,
कुछ चीज़ अहम से बड़ी जन्म लेती है,
नर पर जब भी भीषण विपत्ति आती है,
वह उसे और दुर्धुर्ष बना जाती है ।

चोटें खाकर बिफरो, कुछ अधिक तनो रे !
धधको स्फुलिंग में बढ़ अंगार बनो रे !

~ Ramdhari Sing Dinkar

हर इंसान आज़ादी से जीना चाहता है। यही प्रत्येक मनुष्य का परम लक्ष्य है। यह कोई बाहर की बात नहीं है। बल्कि यह सभी का आंतरिक स्व है। अंदर से हर इंसान आज़ादी से जीना चाहता है। अत: स्वतंत्र रूप से जीने के लिए या स्वतंत्र होने के लिए दूसरों के पैरों पर न पड़ें। जो कुछ भी आपके रास्ते में आता है, जो आग आपके रास्ते में आती है, जो संघर्ष आपके रास्ते में आता है, उससे खुद ही लड़ें। आत्म – समर्पण नही करो। यदि आप समर्पण करते हैं, तो आपका जीवन वैसा नहीं होगा जैसा आप चाहते हैं।

जब भी समय और नियति आपके स्वाभिमान और स्वाभिमान को ठेस पहुंचाती है, तो आपके अंदर कुछ ऐसा आकार ले लेता है जो आपके अहंकार से बड़ा होता है। जब कोई व्यक्ति किसी चुनौती या बुरे समय को पार कर लेता है। वह पहले से ज्यादा मजबूत और सख्त हो जाता है।

जब आपको चोट लगे तो खुद को ऊपर उठाएं। आग बनकर चारों ओर फैल जाओ।

जीना हो तो मरने से नहीं डरो रे कविता का अर्थ – 5

उद्देश्य जन्म का नहीं कीर्ति या धन है,
सुख नहीं धर्म भी नहीं, न तो दर्शन है,
विज्ञान ज्ञान बल नहीं, न तो चिन्तन है,
जीवन का अन्तिम ध्येय स्वयं जीवन है ।


सबसे स्वतन्त्र रस जो भी अनघ पिएगा !
पूरा जीवन केवल वह वीर जिएगा !

~ Ramdhari Sing Dinkar

यह कविता का अंतिम छंद है। यह खूबसूरती से लिखा गया है और बहुत मायने रखता है। यह कविता का संपूर्ण सारांश है।

इसका अर्थ है कि जीवन का लक्ष्य धन या मान्यता नहीं है। अंतिम लक्ष्य न तो सुख है, न धर्म और न ही दर्शन। विज्ञान संपूर्ण ज्ञान या ज्ञान को शक्ति प्रदान करने वाली वस्तु नहीं है, न ही विचारशीलता है। जीवन का अंतिम लक्ष्य जीवन ही है। आज़ादी से और बिना किसी सीमा के जीना ही जीवन का अंतिम लक्ष्य है।

जो स्वतंत्र रूप से और बिना किसी बंधन के जीता है, वही अपना जीवन पूरी तरह से जीएगा।


जीना हो तो मरने से नहीं डरो रे कविता का सारांश

दिनकर की कविता “जीना हो तो मरने से नहीं डरो रे” एक प्रेरणादायक कविता है। ये किसी भी मनुष्य को उत्साहित कर सकती है। हमने “जीना हो तो मरने से नहीं डरो रे कविता के बोल” इस पोस्ट में लिखे हैं। हिंदी समझने वालों के लिए इसकी पंक्तियाँ उत्साह देने वाली हैं।

आपने “जीना है तो मरने से नहीं डरो रे कविता का अर्थ” भी देखा। आशा है आपको पसंद आयी होग।

जीन हो तो मरने से नहीं डरो रे का सारांश सिर्फ इतना है की अगर तुम किसी काम को मृत्यु के भय का कारण नहीं करते हो तो ये सबसे बड़ी कमज़ोरी है। तुम्हे अगर किसी लख्या को पाना है, कुछ ऐसा हासिल करना है जिससे तुम्हारा जीवन अच्छा हो सकता है तो उस काम को बिना किसी दर के करो।

यदि किसी लक्ष्य को पाने में मृत्यु का भी खतरा हो तो तुम्हे वो खतरा उठाना होगा। इसके लिए मृत्यु के भय को त्यागना होगा। अगर जीवन को जीना है तो मृत्यु से डरो नहीं।

जीना हो तो मरने से नहीं डरो. जीना हो तो मरने से नहीं डरो रे कविता के बोल. जीना हो तो मरने से नहीं डरो रे कविता का अर्थ. जीना हो तो मरने से नहीं डरो रे कविता का सारांश. दिनकर की कविता जीना है तो मरने से नहीं डरो रे.

More to Read

हिंदी कविताएँ

TAGS


You can also benefit from our YouTube channels:

Channel 1: Meditation and Spirituality.

Channel 2: Techno Vids

Follow Us on Google News

Our Educational Website: https://education.thepoemstory.com


Leave a Comment

error:
Scroll to Top